11 सालों में कभी नहीं हुई विराट की ऐसी हालत

भारतीय कप्तान विराट कोहली पिछले छह वर्षों में किसी कैलेंडर वर्ष में खेली गई तीसरी पारी तक अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में शतक जड़ देते थे, लेकिन वर्ष 2020 में पहले खराब फार्म और अब कोविड-19 महामारी के कारण भारतीय कप्तान का इंतजार लंबा खिंच गया है। कोहली ने इस साल टेस्ट, एकदिवसीय और टी-20 में कुल मिलाकर 16 पारियां खेली हैं। जिसमें उनका उच्चतम स्कोर 89 रन रहा है जो उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बेंगलुरू में 19 जनवरी को वन-डे मैच में बनाया था।
यही नहीं 2010 के बाद कोहली के करियर में यह पहला अवसर होगा जब वह साल के पहले दो महीनों में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सैकड़ा नहीं जमा पाए हैं। कोहली वर्ष 2020 में अब तक घरेलू सरजमीं पर श्रीलंका के खिलाफ तीन टी-20 और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीन वन-डे खेले हैं जबकि न्यूजीलैंड दौरे में उन्होंने चार टी-20, तीन वन-डे और दो टेस्ट मैच खेले। इन मैचों की 16 पारियों में वह 30.46 की औसत से 457 रन ही बना पाए हैं जिसमें तीन अर्धशतक शामिल हैं।
उम्मीद थी कि कोहली आईपीएल से पहले दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ तीन वन-डे में अपनी फार्म दिखाएंगे, लेकिन इस श्रृंखला का धर्मशाला में पहला मैच बारिश की भेंट चढ़ गया जबकि बाकी दो मैच कोविड-19 के प्रकोप के कारण रद्द कर दिए गए। यह श्रृंखला बाद में खेली जाएगी, लेकिन इसका आयोजन इस महामारी की स्थिति पर निर्भर करेगी जिसके कारण दुनियाभर की खेल प्रतियोगिताएं प्रभावित हुई हैं।
आईसीसी के भविष्य के दौरा कार्यक्रम (एफटीपी) के अनुसार भारत को अपनी अगली श्रृंखला श्रीलंका के खिलाफ जून-जुलाई में खेलनी है जिसमें तीन वन-डे और इतने ही टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच भी शामिल हैं। भारत अगस्त में जिम्बाब्वे के खिलाफ तीन वन-डे की श्रृंखला खेलेगा, जिसके बाद एशिया कप का आयोजन होगा लेकिन ये सभी श्रृंखलाएं कोविड-19 की स्थिति पर निर्भर होंगी।
पिछले कुछ वर्षों में यह पहला अवसर है जबकि कोहली इतनी अधिक पारियों तक तिहरे अंक में नहीं पहुंच पाए। इस स्टार बल्लेबाज ने अपना पहला शतक 24 दिसंबर 2009 को श्रीलंका के खिलाफ कोलकाता में लगाया था। यह उस कैलेंडर वर्ष में उनकी नौवीं पारी थी। इसके बाद उन्हें केवल 2013 में शतक के लिए आठवीं पारी तक इंतजार करना पड़ा था।
कोहली पिछले छह वर्षों में बेहतरीन फार्म में रहे हैं। इस बीच 2014, 2015 और 2017 में तो उन्होंने वर्ष की अपनी पहली अंतरराष्ट्रीय पारी में ही शतक लगाया था जबकि 2016, 2018 और 2019 में उन्हें केवल तीसरी पारी तक इंतजार करना पड़ा था।
भारतीय कप्तान ने 2010 से लेकर 2019 तक दस वर्षों में आठ अवसरों पर जनवरी में ही सैकड़े से शुरुआत कर दी थी जबकि दो बार (2011 और 2013) उन्होंने फरवरी तक इंतजार किया। कोहली के नाम पर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में अभी 70 शतक दर्ज हैं। इनमें से आधे से अधिक (36) शतक उन्होंने पिछले चार वर्षों (2016 से 2019 तक) लगाए। इस बीच 2017 और 2018 में उन्होंने 11 सैकड़े जमाए, लेकिन वर्ष 2020 में शुरू से ही उनका बल्ला कुंद पड़ा हुआ है।
कोहली ने वर्ष 2020 में दो टेस्ट मैचों में केवल 38 रन बनाए हैं जिसमें उनका उच्चतम स्कोर 19 रन रहा। उन्होंने इस साल अब तक जो छह वन-डे खेले हैं उनमें से तीन में वह 50 रन के पार पहुंचे, लेकिन अर्धशतक को शतक में बदलने में माहिर यह करिश्माई बल्लेबाज वर्ष 2020 में अभी तक ऐसा नहीं कर पाया। कोहली ने छह वनडे में 43.00 की औसत से 258 रन बनाए हैं। टी-20 अंतरराष्ट्रीय में उन्होंने सात मैच खेले हैं जिनमें उनके नाम पर 161 रन दर्ज हैं और उनका उच्चतम स्कोर 43 रन है।

Share this:
FacebookTwitterGoogle+LinkedInWhatsApp

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *