प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को 44वीं बार अपने रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ में

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार 27 मई को 44वीं बार अपने रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ में देश की जनता के सामने अपने विचार रखेंगे। मोदी इस बार देशभर में बदलते मौसम और जलवायु परिवर्तन के मुद्दे पर चर्चा कर सकते हैं। साथ ही हाल ही में अलग-अलग बोर्ड परीक्षाओं के नतीजों पर बच्चों को सलाह दे सकते हैं। इसके अलावा वे हाल ही में शुरू किए गए फिट इंडिया चैलेंज का भी जिक्र कर सकते हैं। पिछले हफ्ते ही उन्होंने ट्विटर पर विराट कोहली की ओर से मिली फिटनेस की चुनौती को स्वीकार किया था। बता दें कि ये फिटनेस चैलेंज सरकार में खेल और सूचना एवं प्रसारण राज्यमंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर ने ही शुरू किया था।

प्रधानमंत्री मोदी आज 44वीं बार करेंगे मन की बात; मौसम, फिट इंडिया और परीक्षा परिणामों पर कर सकते हैं चर्चा
पीएम मोदी देशवासियों से रेडियो के माध्यम से महीने के हर अखिरी रविवार को मन की बात कार्यक्रम को संबोधित करते हैं।

अप्रैल-मई में घोषित हुए हैं कई बोर्ड परीक्षाओं के नतीजे
– बता दें कि अलग-अलग राज्यों और सीबीएसई के बोर्ड नतीजे अप्रैल और मई माह में ही घोषित हुए हैं। प्रधानमंत्री इन नतीजों पर युवाओं से चर्चा कर सकते हैं। मोदी ने परीक्षाओं से पहले भी दबाव को लेकर बच्चों का उत्साह बढ़ाया था। इस बार भी नतीजों पर वे बच्चों की हौसलाअफजाई कर सकते हैं।

देशभर में एक महीने में आंधी-तूफान, गर्मी से हुई है कई लोगों की मौत
– गौरतलब है कि पूरे भारत में पिछले एक महीनें में लगातार मौसम बदला है। आंधी-तूफान और गर्मी के चलते कई लोगों की मौत हुई है। पीएम मोदी जलवायु परिवर्तन मुद्दे पर भी जनता से बात कर सकते हैं। बता दें कि पहले भी मन की बात में मोदी इस मुद्दे को उठा चुके हैं।

पिछली बार भी किया था फिट इंडिया का आह्वान
– प्रधानमंत्री ने 43वें मन की बात में भी फिट इंडिया के बारे में अपने विचार लोगों से साझा किए थे। उन्होंने देशवासियों से फिट इंडिया अभियान से जुड़ने का भी आह्वान किया था। इसमें उन्होंने अक्षय कुमार का भी जिक्र किया था।
– मोदी ने गर्मियों के दौरान युवाओं से स्वच्छ भारत समर इंटर्नशिप से भी जुड़ने की अपील की थी। उन्होंने इससे जुड़ने वाले नौजवानों को पुरस्कृत करने का ऐलान भी किया था।

जल संरक्षण पर भी जताई थी चिंता
– मोदी ने पिछली बार पानी की समस्या का मुद्दा भी उठाया था। उन्होंने जल सरंक्षण पर जोर देते हुए लोगों से इसके लिए अपनी जिम्मेदारी निभाने के लिए कहा था। इस बार भी वे गर्मी में पानी के बचाव और उसके तरीकों पर विचार साझा कर सकते हैं।

Share this: