डाॅक्टरों और नसों की 8 टीमें 24 घंटे दिल्ली सरकार के काॅरनटाइन सेंटरों में तैनात की गई

दक्षिणी दिल्ली नगर निगम का जनस्वास्थ्य विभाग कोरोना वायरस से बचाव और रोकथाम के लिए केंद्र और दिल्ली सरकार के साथ गंभीर प्रयास कर रहा है। द.दि.न.नि. के अस्पतालों और डिस्पेंसरियों में अभी तक 10,000 मरीज़ों की जाँच की जा चुकी है और किसी भी मरीज़ में कोरोना वायरस के लक्षण नहीं पाए गए हैं। इन मरीज़ों की जाँच प्रशिक्षित और डाॅक्टरों द्वारा की गई है। जनस्वास्थ्य विभाग ने डाॅक्टरों और नर्सों की आठ टीमों को दिल्ली सरकार द्वारा चिन्हित काॅरनटाइन सेंटरों पर 24 घंटे ड्यूटी पर तैनात कर दिया है।
जनस्वास्थ्य विभाग ने सभी मैडिकल और पैरामैडिकल स्टाफ को कोरोना वायरस के बारे में संपूर्ण जानकारी देते हुए सतर्क और जागरूक किया गया है। 1000 नर्सों को भी कोरोना वायरस के मरीज़ों के संपर्क में आए लोगों की जानकारी और उनपर नज़र रखने का कार्य दिया गया है। इसके अलावा सभी अस्पतालों और डिस्पेंसरियों पर ओपीडी और मेडिकल स्टोर पर खाँसी-ज़ुकाम और बुखार के मरीज़ों के लिए विशेष काउंटर पहले ही बना दिया गया है। जनजागरूकता के लिए विभाग ने होटलों, आरडब्ल्यूए और मार्किट ऐसोसिएशनों के साथ 2000 बैठकें की। दिल्ली सरकार का सहयोग करते हुए होटलों में रुके हुए 7000 लोगों की जानकारी उपलब्ध करा दी गई है।
जनस्वास्थ्य विभाग पूरी मुस्तैदी के साथ कोरोना वायरस से बचाव और रोकथाम में लगा हुआ है और जनजागरूकता के लिए हर संभव प्रयास किया जा रहा है। प्रत्येक ज़ोन में जागरूकता फैलाने के लिए 4 आॅटोरिक्शों को लगाया गया है जोकि हर वार्ड में जाकर लोगों को जागरूक और शिक्षित करेंगे। इसके अतिरिक्त सभी युनीपोंलों, टाॅयलेट ब्लाॅक, मेट्रों ट्रेन में विज्ञापनों के द्वारा जागरूकता फैलाई जा रही है।

Share this:
FacebookTwitterGoogle+LinkedInWhatsApp

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *