Suchana Online, A Hindi News Website....
Breaking News / ताजा खबर
prev next
अर्थव्यवस्था की हर गड़बड़ का प्रतीक हैं ट्रंप: हिलेरी

अर्थव्यवस्था की हर गड़बड़ का प्रतीक हैं ट्रंप: हिलेरी

अमेरिकी राष्ट्रपति पद की डेमोक्रेटिक उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन ने कहा है कि अमेरिकी अर्थव्यवस्था में जो भी गड़बड़ी है, डोनाल्ड ट्रंप उसके ‘पोस्टर ब्वाय’ हैं। हिलेरी की यह टिप्पणी ऐसे समय पर More »

समान संहिता केवल मुस्लिमों का मुद्दा नहींः ओवैसी

समान संहिता केवल मुस्लिमों का मुद्दा नहींः ओवैसी

एआईएमआईएस के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने जोर देकर कहा है कि समान नागरिक संहिता (यूसीसी) केवल मुस्लिमों से जुड़ा मुद्दा नहीं है बल्कि पूर्वोत्तर के कुछ इलाकों के लोग भी इसका विरोध More »

सोनिया के चुनाव को चुनौती याचिका पर सुनवाई स्थगित

सोनिया के चुनाव को चुनौती याचिका पर सुनवाई स्थगित

उच्चतम न्यायालय ने सोनिया गांधी की नागरिकता और मुस्लिम वोट हासिल करने के लिए कथित रूप से साम्प्रदायिक कार्ड खेलने के मामले के मद्देनजर वर्ष 2014 में रायबरेली लोकसभा निर्वाचन सीट से More »

पाक सेना ने चौकियों और बस्तियों पर दागे मोर्टार

पाक सेना ने चौकियों और बस्तियों पर दागे मोर्टार

जम्मू जिले में अंतरराष्ट्रीय सीमा से लगे आरएस पुरा और अरनिया सेक्टरों में पाकिस्तानी सैनिकों द्वारा 15 से अधिक सीमा चौकियों और 29 बस्तियों पर मोर्टार बमों और स्वचालित हथियारों से रात More »

ISI के दो PAK जासूस दिल्ली से गिरफ्तार

ISI के दो PAK जासूस दिल्ली से गिरफ्तार

दिल्ली पुलिस ने जासूसी मामले में दो लोगों को गिरफ्तार किया है। ये दोनों भारतीय हैं और जासूसी में पाकिस्तान की मदद कर रहे थे। इस मामले में दिल्ली स्थित पाकिस्तान उच्चायोग More »

 

अर्थव्यवस्था की हर गड़बड़ का प्रतीक हैं ट्रंप: हिलेरी

Donald Trump us america

अमेरिकी राष्ट्रपति पद की डेमोक्रेटिक उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन ने कहा है कि अमेरिकी अर्थव्यवस्था में जो भी गड़बड़ी है, डोनाल्ड ट्रंप उसके ‘पोस्टर ब्वाय’ हैं। हिलेरी की यह टिप्पणी ऐसे समय पर आई है जब रिपब्लिकन उम्मीदवार ट्रंप ने वाशिंगटन में अपने नए होटल का प्रचार करने के लिए चुनावी प्रचार अभियान से अवकाश लिया है। ट्रंप के इस होटल को ‘कम बजट का’ और ‘समय से पहले’ तैयार हुआ बताया गया है, हालांकि इसके बारे में पूरे आंकड़े नहीं जारी किए गए।
हिलेरी ने बुधवार को फ्लोरिडा राज्य के टैम्पा में समर्थकों को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘इस अभियान में हमने वास्तव में यह जाना है कि अमेरिकी अर्थव्यवस्था में जो कुछ भी गड़बड़ है, ट्रंप उसके पोस्टर ब्वाय हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘अटलांटिक सिटी से मियामी और लास वेगास तक के कर्मचारियों और ठेकेदारों को उन्होंने वेतन देने से इनकार किया। वह छोटे कारोबारों पर सख्ती करते हैं। मैं ऐसे बहुत से लोगों से मिली हूं, जिन्होंने डोनाल्ड ट्रंप के लिए काम किया लेकिन उन्हें भुगतान नहीं किया गया।’’ उन्होंने कहा, ‘‘आज उस होटल के उद्घाटन में, मुझे लगता है कि इस बात पर गौर करना सबसे महत्वपूर्ण होगा कि वह एक बार फिर बिना दस्तावेजों वाले कर्मचारियों पर निर्भर रहे हैं। ये वही लोग हैं, जिन्हें उनके पूरे प्रचार अभियान के दौरान अपमानित किया जाता रहा और उनका हौवा बनाया जाता रहा है।’’ हिलेरी ने कहा कि होटल के कई उत्पाद अमेरिका के बजाए विदेशों में बने हैं। उन्होंने कहा कि ट्रंप ने कम करों का भुगतान करने के लिए कोलंबिया डिस्ट्रिक्ट पर मुकदमा भी किया था। ‘‘वह इसी तरीके से कारोबार करते हैं।’’ हिलेरी ने कहा कि अमेरिकी जनता ओवल कार्यालय में इस तरह के अनुभव नहीं चाहती है।
हिलेरी ने अमेरिकी सेना पर ट्रंप द्वारा की गई टिप्पणियों को लेकर उन पर निशाना साधते हुए कहा कि इस दिशा में उनका (ट्रंप का) खुद का योगदान शून्य है। उन्होंने कहा, ‘‘उन्होंने असल में हमारी सेना को विफल बताने की ढिठाई है। वह गलत तो हैं ही लेकिन उनके पास ऐसी बात करने का अधिकार भी क्या है? उन्होंने हमारी सेना के लिए एक सिक्के तक का योगदान नहीं दिया है। हमारे पूर्व सैनिकों को कोई मदद नहीं दी, स्वास्थ्य सेवा या शिक्षा के लिए कुछ सहायता नहीं दी। राजमार्गों या अवसंरचना के लिए कुछ नहीं किया। हमारे देश की सभी समस्याओं के बारे में वे इस तरह के झूठे आरोप लगाते हैं।’’ हिलेरी ने आरोप लगाया कि ट्रंप दशकों से अमेरिका की ‘आलोचना’ करते रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘‘इस सब की शुरूआत राष्ट्रपति बराक ओबामा के जन्म के बारे में उनके द्वारा बोले गए झूठ से नहीं हुई, यह मेरे खिलाफ चुनावी दौड़ में शामिल होने से भी नहीं शुरू हुआ। बल्कि वर्ष 1987 में, उन्होंने तत्कालीन राष्ट्रपति रीगन की आलोचना करते हुए न्यूयार्क टाइम्स में एक लाख डॉलर खर्च करके एक विज्ञापन निकाला था। उन्होंने कहा था कि हमारे नेता दुनियाभर में हंसी का पात्र हैं। यह इंसान अपने अलावा हर किसी की आलोचना करता है।’’

Share this:
FacebookTwitterGoogle+LinkedInWhatsApp

काले धन को लेकर है सपा परिवार में लड़ाई: नसीमुद्दीन

बसपा के राष्ट्रीय महासचिव नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने सपा में रार को पारिवारिक नाटक करार देते हुए कहा कि सपा परिवार के नेता काले धन को लेकर आपस में लड़ रहे हैं। उन्होंने सपा पर अपने हितों के लिए मुसलमानों का इस्तेमाल करने का आरोप लगाया। बसपा नेता ने भाजपा पर दंगे कराने के आरोप लगाते हुए कहा कि जनता ऐसे लोगों को चुनाव में सबक सिखायेगी। सिद्दीकी ने उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले के किठौर गांव में बुधवार को आयोजित मुस्लिम सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘मुसलमान समाज की प्रमुख ताकत हैं लेकिन सपा आपको अपने हित के लिए इस्तेमाल कर रही है। आपका वोट लेने के बाद सपा ने आपको छोड़ दिया। उसने न तो आपको आरक्षण दिया और न ही अन्य लाभ दिए। आपको अपनी ताकत को समझकर एकजुट होना होगा और सपा के बहकावे में नहीं आकर बसपा को मजबूत करना होगा।’’
उन्होंने भाजपा पर राज्य में दंगे कराने के आरोप लगाये और सपा एवं भाजपा को एक बताते हुए कहा कि दोनों पार्टियां साम्प्रदायिक उन्माद फैलाती हैं। सिद्दीकी ने सपा में पिछले एक माह से चल रही लड़ाई को पारिवारिक नाटक बताते हुए कहा कि यह लड़ाई समाजवाद की नहीं बल्कि परिवारवाद की है जो काले धन के बंटवारे को लेकर हो रही है और सभी का प्रयास यह है कि सरकार के कार्यकाल के अंत में कौन ज्यादा से ज्यादा लूट मचा सके।
पश्चिमी उत्तर प्रदेश के बसपा प्रभारी अतर सिंह राव ने कहा कि आने वाला समय बसपा का है और जनता पूरी तरह बसपा के साथ है। दलित, मुस्लिम और पिछड़ी जातियों के साथ सर्वसमाज का समर्थन बसपा को मिल रहा है। उन्होंने जनसभा में उपस्थित लोगों से अपील की कि वे एकजुट होकर पूरे जोश के साथ बसपा को मिशन 2017 में जिताने के लिए कार्य करें। उल्लेखनीय है कि बसपा मुस्लिमों को अपने पक्ष में एकजुट करने के लिए विधानसभा क्षेत्रों में मुस्लिम सम्मेलन आयोजित कर रही है।

Share this:
FacebookTwitterGoogle+LinkedInWhatsApp

अल्पसंख्यक समुदाय की परिभाषा पर पुनर्विचार हो: गिरिराज

केंद्रीय मंत्री और भारतीय जनता पार्टी के नेता गिरिराज सिंह ने कहा है कि देश में अल्पसंख्यक समुदाय की परिभाषा पर पुनर्विचार करने की जरूरत है। काशी हिन्दू विश्वविद्यालय में आयोजित एक कार्यक्रम में शिरकत करने आये गिरिराज ने मीडिया से हिन्दुत्व की समीक्षा के बारे में कहा, ‘‘यह हो या नहीं। लेकिन देश में मौजूद 20 करोड़ से ज्यादा की जनसंख्या वाले मुस्लिम समुदाय की परिभाषा फिर से परिभाषित करने की दरकार है। जहां वे ज्यादा हैं, वहां भी अल्पसंख्यक और जहां कम हैं, वहां भी।’’
उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी के कुनबे में मचे घमासान के सवाल पर गिरिराज सिंह ने कहा कि यह महात्वाकांक्षा और सत्ता की लड़ाई है। सपा के अंदर स्वस्थ राजनीति देने में कोई दिलचस्पी नहीं है, इसलिए पार्टी बंटी हुई है। वस्तुत: परिवारवाद और सत्तावाद से लोगों का मोह भंग हो गया है। कभी नेता जी तो कभी बहन जी। अब इन सबको दरकिनार कर ‘जनतावाद’ लाना है। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से अपहृत दो व्यापारियों के पटना से बरामद होने के सवाल पर उन्होंने कहा कि बिहार तो ‘अपराधियों की नर्सरी’ बना हुआ है, जहां सत्ता नाम की कोई चीज नहीं है। सच पूछें तो बिहार में जंगलराज 2 है, जो पूरे देश के अपराधियों का संरक्षण केंद्र बन गया है।

Share this:
FacebookTwitterGoogle+LinkedInWhatsApp

समान संहिता केवल मुस्लिमों का मुद्दा नहींः ओवैसी

owaisi

एआईएमआईएस के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने जोर देकर कहा है कि समान नागरिक संहिता (यूसीसी) केवल मुस्लिमों से जुड़ा मुद्दा नहीं है बल्कि पूर्वोत्तर के कुछ इलाकों के लोग भी इसका विरोध करेंगे। उन्होंने भाजपा पर देश के बहुतलतावाद और विविधता के तानेबाने को ‘‘खत्म’’ करने का आरोप लगाया। हैदराबाद से लोकसभा सदस्य ओवैसी ने यहां कहा, ‘‘समान नागरिक संहिता केवल मुस्लिमों से जुड़ा मुद्दा नहीं है। यह एक ऐसा मुद्दा है जिसका पूर्वोत्तर के लोग भी विरोध करेंगे, खासकर नगालैंड और मिजोरम के।’’
उन्होंने कहा कि यह एक ऐसा मुद्दा है जो भारत के कई लोगों को चिंता में डाल देगा यह भारत के बहुतलतावाद और विविधता से जुड़ा हुआ है जिसे ‘‘भाजपा खत्म कर देना चाहती है।’’ ओवैसी ने आरोप लगाया, ‘‘भाजपा, वह तो मुस्लिमों को शत्रु के तौर पर दिखाना चाहती है ताकि वह इस मुद्दे पर ध्रुवीकरण कर सके। यूसीसी के मुद्दे पर लोग उनके खेल को समझ चुके हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘हिंदू अविभाजित परिवार का लाभ ईसाइयों और मुस्लिमों को क्यों नहीं दिया गया? केंद्रीय मंत्री एम वैंकया नायडू कहते हैं कि भारत में धर्म के आधार पर कानून नहीं होने चाहिए तो यह हिंदू अविभाजित परिवार, हिंदू विवाह अधिनियम, हिंदू उत्तराधिकार कानून क्या है? ये सब क्या है?’’
विवादित यूसीसी मुद्दे पर अपने परामर्श का और विस्तार करते हुए विधि आयोग ने सभी राष्ट्रीय और क्षेत्रीय राजनीतिक दलों से अपने विचार और योजनाएं साझा करने को कहा था, साथ ही इस विषय पर चर्चा के लिए उनके प्रतिनिधियों को आमंत्रित करने की योजना देने को भी कहा था। इस विषय पर पैनल ने सभी दलों को प्रश्नावली भेजकर 21 नवंबर तक उनसे उनके विचार मांगे हैं। शहरी विकास, सूचना तथा प्रसारण मंत्री वैंकया नायडू ने कहा था कि यूसीसी को पिछले दरवाजे और आम सहमति के बगैर नहीं लाया जाएगा।

Share this:
FacebookTwitterGoogle+LinkedInWhatsApp
Powered By Indic IME